शनिवार, 22 जुलाई 2017

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु / जुलाई माह

जुलाई के श्रेष्ठ हाइकु

नभ ने भेजा
बादल टेंकर से
धरा को जल
      नरेन्द्र श्रीवास्तव
छलक पड़ा
तट पर आते ही
नाव का दर्द
       शिव डोयले
प्रेम का पेड़
मुश्किल से उगता
जड़ गहरी
      -सुशील शर्मा
बेताल कथा
आतंकी सुना रहा
अपनी कथा
       विष्णु प्रिय पाठक
गहरी आँखें
बुज़ुर्ग ढूँढ़ रहा
अपनी लाठी
       -विष्णु प्रिय पाठक
स्वप्न परी सा
कितना भव्य झूला
इंद्र धनुष
      डा. रंजना वर्मा
रैन बसेरा
करें स्वप्न के पंछी
सुबह उड़ें
       डा, रंजना वर्मा
जुगल बंदी
-----------
सुबह से ही
हो रही रिमझिम
भीगा है मन
       जितेंद्र वर्मा
मेघों से घिरा
अम्बर का विस्तार
भीगी है धरा
      -प्रियंका वाजपेयी
---------------
देता रहा है
दिल पर दस्तक
ज़मीर सदा
       -प्रियंका वाजपेयी
लिखी धूप ने
वृक्षों की कलम से
छाँव की कथा
        -राजीव गोयल
बरसा पानी
प्यासी नदी ने पिया
जी भर पानी
       नरेन्द्र श्रीवास्तव
अपनापन
मुस्कान की छुअन
छलके मन
      -सुशील शर्मा
बड़े मित्र का
कर रहे स्वागत
भोर के तारे
       विष्णुप्रिय पाठक
मिले ही नहीं
बिछड़े सौ सौ बार
कैसा ये प्यार
       मंजूषा मन
धीरे बोलिए
है फूल अभी सोया
धूप उतार
       तुकाराम खिल्लारे
नैनों में नमी
बारिशों का मौसम
रोया है कोई
        प्रियंका वाजपेयी
कुछ लमहे
दफ़न तो होते हैं
मरते नहीं
        प्रियंका वाजपेयी
गुरु वरण
तेजोमय संस्कार
आत्म प्रदीप्त
       -सुशील शर्मा
अपना गुरु
बैठा है अंतर में
सुनो तो सही
         -जितेन्द्र वर्मा
गुरु पारस
छू लेता जिसको भी
करे कुंदन
        -राजीव गोयल
गुरु पूर्णिमा
मधुशाला में बैठे
शिष्य आचार्य
       -विष्णुप्रिय पाठक
गिनू कितने
यादों के ये मोती
माला दुःख की
       तुकाराम खिल्लारे
बरसा पानी
कागज़ की नाव पे
स्वप्न सवार  
      नरेन्द्र श्रीवास्तव
नमी हवा में
आँखें भी हुईं नम
पानी न आया
       -जितेन्द्र वर्मा
मकड़ जाल
गिरफ्त में मच्छर
बना आहार
       -विष्णुप्रिय पाठक
तैरते गीत
यादों के समुद्र
लय तुम्हारी
       -जित्रेंद्र वर्मा
पत्तों ने थामी
बरसात की बूँदें
नीड़ बचाने
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
सहा  न जाए
खामोशियों का शोर
कुछ तो बोल
        -राजीव गोयल
डरी रोशनी
घने बादल देख
छिपने लगी
        -डा. रंजना वर्मा
उन्हें नमन
सीमा ओर चले
जो बाँध कफ़न
        -सूर्य नारायण गुप्त
मन का सूप
फटके जीवन की
छाँव और धूप
        -सूर्य नारायण गुप्त
सखियाँ साथ
मेहदी लगे हाथ
ऋतु सावन  
        डा. रंजना वर्मा
जुगलबंदी
------------
मिट्टी में सोया
बूंदों ने सहलाया
जगा अंकुर
      डा. रंजना वर्मा
जगा अंकुर
नन्हा पौधा बनके
बूंदों ने सींचा
      -जितेन्द्र वर्मा
----------------
शब्दों में ढली
भावों की अभिव्यक्ति
रचना बनी
        -शिव डोयले
बजे नगाड़े
मेघों की पालकी में
वर्षा पधारे
       -राजीव गोयल
डरी रोशनी
घने बादल देख
छिपने लगी
       -डा. रंजना वर्मा
श्वास संगीत
सुर लय ताल में
बजाए गीत
      -निगम 'राज़'
पावस पर्व
मेघ समूह करे
जल तर्पण
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
वर्षा जो आई
धरा की तबीयत \
हरी हो गई
       -नरेन्द्र शीवास्तव
मन का मोर
बरखा में नाचता
धूप में खडा
      -तुकाराम खिल्लारे
सारे के सारे
संबंधों के पाये हैं
रिश्ते हमारे
        -राजीव निगम 'राज़'
नारी की व्यथा
द्रोपदी मीरा राधा
सीता की कथा
        -सूर्य नारायण गुप्त
सावन गीत
वर्षा की बूंदों संग
युगलबंदी
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
सावन स्वप्न
कागज़ की नाव से
सैर सपाटा
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
कहे न कोई
ब्रह्म तत्व का ज्ञान
गूंगे का स्वाद
        -कैलाश कल्ला
बूँदें पाज़ेब
धरती को छूते ही
छम से बजीं
        -नरेंद्र श्रीवास्तव
मेघ ने भेजी
सावन सगुन की
बूंदों की बिंदी
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
यादों के धागे
बन रहे अतीत
वर्तमान में
       -राजीव गोयल
रास्ते बनाके
चलते रहें हम
अपनी राह
      -राजीव निगम 'राज़'
राह निहारें
मृदुल भावनाएं
मन के द्वार
       -डा. रंजना वर्मा
dead end ?
look, and go back
take another road
         Jitendra varma
आई किरण
संवार कर केश
चल दी निशा
        --राजीव गोयल
फूलों की झोली
बिखर जाने पर
बने रंगोली
      -वलजीत  सिंह
बादल काले
नील गगन पर
काजल डाले
      -वलजीत सिंह
जुगल बंदी
-------------
अब की बार
सावन विकराल
जल का ज्वार
       -सूर्य करण सोनी
जल उफान
हाहाकारी अवस्था
जीव विनाश
        -राजीव निगम 'राज़'
-----------------------
टूटी जो डोर
उड़ चला विहंग
फैलाए डैना
        -प्रियंका वाजपेयी
स्वप्न सुन्दर
विचार रहा मन
सब्ज़ बाग़ में
       -प्रियंका वाजपेयी
सिंदूरी शाम
गोधूल भरी वेला
लौटता धाम
        -सुशील शर्मा
कोमा में गया
फिर जागा ही नहीं
मेरा ज़मीर
       -आर पी शुक्ल
       (जितेन्द्र वर्मा के सौजन्य से )
पता पूछती
अमावस की रात
चाँद खोजती
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
बरछी भाले
आत्मरक्षा की चाह
मौत हवाले
       बलजीत सिंह
झूठ फरेब
इन सबका मन्त्र
भर लो जेब
       -बलजीत सिंह
बरसे नहीं
हनक दिखा गए
काले बादल
      दिनेश चन्द्र पाण्डेय
बारिश आई
ठहरा हुआ पानी
ले अंगडाई
       बलजीत सिंह
अब्रे बहार
इतना तो बरस
जा न पाए वो
       -डा. रंजना वर्मा
लिख गीत में
गुलाब की सुगंध
कांटे का दर्द
       -शिव डोयले
बहती हवा
बहका ले जाती है
मेरे मन को
       -अमन चाँदपुरी 

गुरुवार, 29 जून 2017

जून माह के श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु, माह जून

बीच में रखें
एक कप चाय का
हो बातचीत
      -जितेन्द्र वर्मा
तेरा सामीप्य
हर दिन लगता
तीज-त्यौहार
      शिव डोयले
दीप की माला
अमावस सघन
तम गहन
      सुशील शर्मा
जुगलबंदी
-----------
प्यार के छंद
लिख रही राधिका
गाती बांसुरी
     -शिव डोयले
प्रीत की धुन
होठ लगी बांसुरी
मधुर गीत
      -प्रियंका वाजपेयी
---------------
ओस की बूंद
पुष्प पंखुरी पर
मुक्ता सदृश
       -डा. रंजना वर्मा
पर्यावरण
ज़हर भरा धुआं
खांसते लोग
       -विष्णु प्रिय पाठक
अपने बच्चे
चोंच मार उड़ाती
माता चिड़िया
       -जितेन्द्र वर्मा
मन की वीणा
गीत बुनती साँसें
ताल स्पंदन
       -प्रियंका वाजपेयी
जोत रहे हैं
असंतुष्ट किसान
हिंसा के खेत
        -अभिशेख जैन
आई न वर्षा
खेतों में उग रही
क़र्ज़  फसल
        -राजीव गोयल
ज्येष्ठ की धूप
आँगन में पसरी
हक़ जताए
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
ज़िंदगी गुत्थी
सुलझाना मुश्किल
जीना आसान
       -जितेन्द्र वर्मा
तुलसी चौरा
आस्था भरा आँगन
दीया ज़िंदगी
      -रमेश कुमार सोनी
सूरज पिता
माता है वसुंधरा
प्राण नियंता
        -सुशील शर्मा
नारी की व्यथा
द्रौपदी, मीरा, राधा
सीता की कथा
        -सूर्य नारायण गुप्त
उदास दादी
वृद्ध माँ को रुलाता
पुत्र फसादी
        -सूर्य नारायण गुप्त
तैरती रही
तन्हाई के सिन्धु में
यादों की किश्ती
        राजीव गोयल
प्रेम के आँसू
निरंतर बरसे
पाने को प्रेम
       -कैलाश कल्ला
उगले आग
रोष में है प्रकृति
मानव जाग
      भावना सक्सेना
मन का तन
दर्द के पैरहन
साँसें लिबास
       -सुशील शर्मा
ढलता सूर्य
कर रहा इशारा
मौत न दूर
       -अभिषेक  जैन
निर्झर काव्य
बहता चहुंओर
बटोरे कवि
       -जितेन्द्र वर्मा
लौट रही हैं
अनमनी लहरें
तट तटस्थ
       -राजीव गोयल
कबाड़ हुए
ज़माना गुज़रते
लोग सामान
        -रमेश कुमार सोनी
किस्सों के गाँव
गप बेचे बाज़ार
देते उधार
       -रमेश कुमार सोनी
अपने लगे
कुर्सी पाने के बाद
सपने लगे
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
खून का रंग
सब धर्मों का एक
फिर क्यों फर्क ?
       -सुशील शर्मा
प्रात: घुमाने
आलसी मालिक को
टौमी  ले जाता
        -राजीव गोयल
स्त्री के दायरे
देह के इर्द-गिर्द
कैसे निकलें?
       -सुशील शर्मा
उदास  दिन
न करने को कुछ
यादों ने घेरा
       -जितेन्द्र वर्मा
स्वाती नक्षत्र
पुनर्वसु बरसे
मन हरसे
      -विष्णु प्रिय पाठक
झाँक रही हैं
खिड़की के शीशे से
वर्षा की बूँदें
      -राजीव गोयल
घटा फासला
दिल से मिला दिल
बना घोंसला
        -निगम 'राज़'
पिता  की सेवा
सबसे बड़ी पूजा
ईश्वर दूजा
        -प्रदीप कुमार दाश 'दीपक'
बारिश बूँदें
आँखों से छलकतीं
चुभता मौन
      -तुकाराम खिल्लारे
ओढ़ के मौन
सहता ही रहा मैं
नित्य छलावा
        -प्रियंका वाजपेयी
मन की व्यथा
अपने ही न जाने
फिर क्या गिला ?
        -प्रियंका वाजपेयी
दोनों ही सही
बस यही बात तो
गलत होती
        राजीव गोयल
है जिंदगानी
सिंदूरी रंगों वाली
शाम सुहानी
        -निगम राज़
झरो ओ मेघ
बरस लो सतत
बुझे तपन
         -सुशील शर्मा
नभ में मेघ
उड़ता जाता हंस
पराए देश
      विष्णु प्रिय पाठक

start listening
what the air says
even in whispers
        Jitendra Varma
दीप्ति बदन
विद्युत् से नयन
स्पंदित मन
       -सुशील शर्मा
खौफ में घर
बस्ती में आग लगी
विश्वास जला
         -रमेश कुमार सोनी
पढ़ाते वर्ण
हाथ पकड़ पिता
मुस्कुराती माँ
        -तुकाराम खिल्लारे
तेरे दीद से
नसीब होगी खुशी
आज ईद पे
       -निगम 'राज़'
नई कोंपलें
बैठी हुई बेख़ौफ़
शाख की गोद
       -राजीव गोयल
बजने लगीं
मंदिर में घंटियाँ
गोधूली वेला
       -राजीव गोयल
monsoon
thunderstorm
a continuous weep
      -Jitendra varma
warm coffee
turned icy cold
a wait worthwhile
        Jitrendra Varma
 जुही सी कली
जग उपवन में
माली ने छली
       -प्रदीप कुमार 'दाश
सूखता जिस्म
धरती की दीवारें
हत चेतन
        -सुशील शर्मा
एक सैलाब
बहा कर ले गया
सारे सपने
       -सुशील शर्मा
घमंड तनी
उतुंग इमारतें
धूल में मिलीं
       - सुशील शर्मा

बुधवार, 31 मई 2017

मई माह के श्रेष्ठ हाइकु

मई माह के श्रेष्ठ हाइकु

पहली मई 
माथे पर पसीना 
श्रम दिवस 
       -जितेन्द्र वर्मा
श्वेद तरल
श्रम है अविरल
नव निर्माण
       -सुशील शर्मा
विकास रथ
मुझसे गुज़रता
हूँ अग्नि पथ
       -सुशील शर्मा
नींद ले उडी
सपनों की पतंग
भोर ने काटी
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
नींद बागबां
सपनों के फूलों से
प्रीत महके
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
बेचे सपने
सपनों का व्यापारी
ये मेरा मन
       -जितेन्द्र वर्मा
वही कहानी
फिर टूटे सपने
वर्षों पुरानी
      -विष्णु प्रिय पाठक
जीवन तेरा
सिल पर निशान
हाइकु जैसा
      -प्रीती दक्ष
जीता लड़ाई
ज़िंदगी हार कर
वीर सिपाही
      -राजीव गोयल
ज़िंदगी स्वप्न
सच मान कर जी
वाह, ज़िंदगी
        -जितेन्द्र वर्मा
गोधूलि बेला
होने लगा शिथिल
सूरजमुखी
       -राजीव गोयल
रस्म नापाक
भविष्य हुआ ख़ाक
तीन तलाक
      -डा. रंजना वर्मा
झड़ा पलाश
सज गई है सेज
पेड़ों के नीचे
      -राजीव गोयल
व्रती विहग
धूप जाने के बाद
दाना चुगते
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
नींद से जगी
अलसाई सी कली
स्वप्न महका
      -सुशील शर्मा
स्वप्न की नाव
नींद की नदी पर
तैरती रही
       -सुशील शर्मा
माडर्न आर्ट
विभा सुलझा रही
वर्ग पहेली
       -विभा श्रीवास्तव
कहा मौन ने
अहसास ने सुना
दर्द मन का
      -प्रियंका वाजपेयी
रूप यौवना
दर्पण सखी सदा
नहीं परदा
      रमेश कुमार सोनी
पीड़ा किसी की
असह्य थी, मगर
खामोश रही
       -प्रियंका वाजपेयी
दिल दर्पण
दिखलाए हमेशा
बिम्ब अपना
       -कैलाश कल्ला
और से नहीं
अपने से ही लड़ें
पाएं विजय
       -जितेन्द्र वर्मा
माँ मेरी मित्र
गंगा जैसी पवित्र
ईश्वर चित्र
       -सुशील शर्मा
पी रहा हूँ मैं
घोल कर शराब
तनहा रात
      -राजीव गोयल
हिंसा अहिंसा
रास्ते दो लड़ने के
कोई तो चुनें
      -पीयूषा
अहिंसा प्यार
साधे हित सभी का
सत्य की राह
      -पीयूषा
स्थिर हो चित्त
भटकते सिद्धार्थ
बैठे तो बुद्ध
       -सुशील शर्मा
सेल्फी का दौर
हर कोई तनहा
कौन अपना
      -अमन चांदपुरी
जाते ही जान
छाया भी छोड़े साथ
काहे का मान
      -अमन चांदपुरी
भीतर ज्वाला
बाहर हिमगिर
ऐसी है धरा
       -प्रियंका वाजपेयी
नन्हा बालक
थोड़ी सी झरी हंसी
मानो हाइकु
       (संपादित)  -तुकाराम खिल्लारे
संचित अन्न
गोदाम में ही सड़ा
जनता भूखी
       - जितेन्द्र वर्मा
वैसाखी धूप
बरगद की छाँव
बनी बैसाखी
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
श्याम की छवि
यमुना में समाई
सांवरी भई
      डा. रंजना वर्मा
सहे न सर्दी
झेली न जाए गर्मी
इन्सां अझेल
       -प्रियंका वाजपेयी
दहका जब
सूरज का तंदूर
पकी फसलें
       -राजीव गोयल
तुम्हारी यादें
तपी दुपहरी में
स्निग्ध छाया सी
     -सुशील शर्मा
अकेला साया
जाना पहचाना सा
तनहा चला
      -सुशील शर्मा
अक्स उसका
उसी रोज़ ही चन्दा
झील हो गया
       -विष्णु प्रिय पाठक
मौन ही सही
कहलवा लेती है
खामोशी सब
        -प्रियंका वाजपेयी
खो गई याद
अंतर मन कहीं
ढूँढ़ न पाया
       -जितेन्द्र वर्मा
फिर आओ माँ
बच्चा मुझे बना के
दुलाराओ माँ
       -निगम 'राज़'
बीज झांकते
धरा आँचल खोल
वृक्ष बनने
       -रमेश कुमार सोनी
अम्मा का प्यार
झरता है निर्झर
अनवरत
       -सुशील शर्मा
देखा न खुदा
माँ में ही देख रहा
उसका नूर
      -कैलाश कल्ला
जैसा था बोया
वैसा ही काटा, फिर
काहे का घाटा
       - अमन चाँदपुरी
धूप का कर्फ्यू
चिड़िया भूखी बैठी
दुखी पीपल
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
तीखी किरणें
धूप धरे तेवर
धरा है मौन
      -प्रियंका वाजपेयी
खोखला करे
चाहतों की नींव को
गरीबी घुन
       -राजीव गोयल
हवा का झोंका
आकाश में तैरते
सेमल बीज
       -विष्णु प्रिय पाठक
कुछ न किया
निठल्ले बैठे बैठे
नींद ने घेरा
     -जितेन्द्र वर्मा
ज्येष्ट की धूप
खाली गागर लिए
पानी खोजती
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
छोटा सा बीज
अंजुरी भर पानी
कुनमुनाया
       -सुशील शर्मा
नन्हा सा बीज
मुस्कुराता हंसता
धरा से फूटा
       -सुशील शर्मा
लगा सदमा
मुरझाई तुलसी
चल बसी माँ
      -अभिषेक जैन
धूप दबंग
बाहर निकले
तो पसीना छूटे
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
गाँव चौपाल
पीपल चौरा देता
पंचों का न्याय
       -रमेश कुमार सोनी
जुगलबंदी
*******
वट के घर
राहगीरों का रेला
छाँव उत्सव
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
पीपल नीचे
राहगीरों का मेला
ताड़ अकेला
      -राजीव गोयल
----------------
पिरोता रहा
आंसुओं की डोरी में
यादों के मोती
      -राजीव गोयल
सोना बखेरें
सूरज की किरणें
सागर वक्ष
     -जितेन्द्र वर्मा
थिरकी खूब
बनकर बाराती
दारू की घूँट
      -अभिषेक जैन
मुद्दत बाद
फिर जली अंगीठी
खुश रसोई
       -राजीव गोयल
सुबह शाम
सूरज की लालिमा
तुम्हारे नाम
       -निगम 'राज़'
बदला वक्त
तारा आसमान का
ज़मीं पे गिरा
      -राजीव गोयल
घर में बेटी
तुलसी का बिरवा
स्वर्ग का द्वार
       -सुशील शर्मा
चलते रहे
जिह्वा की कमान से
शब्दों के तीर
      -राजीव गोयल
छत में दिखे
चौदहवीं का चाँद
दो पाटों फंसा
       रमेश कुमार सोनी
नम है हवा
क्या रात भर तुम
रोईं थीं कल ?
       -राजीव गोयल
लड़ा के हवा
भागी आवारा हवा
लगा दी आग
        -राजीव गोयल
प्रीत की डोर
जोड़े ही रखिएगा
बात गहन
       -प्रियंका वाजपेयी
जीवन मृत्यु
सुबह और शाम
पूर्ण विराम
      -शिव डोयले
शाम हो गई
थक गया शहर
आस खो गई
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव 

धूप कुंदन की समीक्षा

<धूप कुंदन (हाइकु रचनाएं ) डा. सुरेन्द्र वर्मा, उमेश प्रकाशन, १००,लूकरगंज, इलाहाबाद-१, २००९, मूल्य,१२५ /

प्राक्कथन : हिन्दी हाइकु

    हिन्दी जगत में जापानी काव्य-रूप, हाइकु, मुख्यत: अपने कलेवर से जाना जाता है |   हाइकु कवितायेँ कुल तीन तीन पंक्तियों की होती हैं | लेकिन हर तीन पंक्ति की कण विता को हाइकु नहीं कहा जा सकता | इन यीन पंक्तियों का भी एक अनुशासन है | इनमें से प्रथम ५, द्वितीय ७, और तृतीय पंक्ति पुन: ५ अक्षरों की होती है | हिन्दी हाइकु ने अब इस अनुशासन को लगभग स्वीकार कर लिया है | यह अनुशासन जापानी हाइकु रचनाओं के कलेवर से सर्वाधिक मेल खाता हुआ भी है |
   लेकिन क्या हर कविता जो इस अनुशासन को स्वीकार करती है 'हाइकु' की श्रेणी में रखी जा सकती है ? कलेवर की दृष्टि से नि:संदेह यह एक हाइकु कहा जा सकता है, लेकिन जापान में हाइकु के साथ एक शर्त और भी रही है कि हाइकु रचनाओं के साथ एक ऋतुबोधक संकेत अवश्य होना चाहिए | इसे जापानी भाषा में 'किगो' कहते हैं | हिन्दी में ऋतु संकेत से युक्त अनेकानेक हाइकु रचनाएं की गई हैं | लेकिन हिन्दी ने 'किगो' की शर्त से बंधना स्वीकार नहीं किया है | 'किगो' रहित हाइकु कलेवर की कवितायेँ भी यहाँ हाइकु ही कहलाती हैं | वस्तुत: कालान्तर में जापान में भी एक अधिक उदारवादी दृष्टिकोण अपनाया गया और हाइकु के लिए 'किगो' अनिवार्य नहीं रहा |
     आपको हिन्दी में ऐसी अनेकानेक हाइकु रचनाएं मिल जाएंगीं जिनमें हाइकु के कलेवर का भी ध्यान रखा गया है और ऋतु बोधक संकेत भी है फिर भी इन्हें हाइकु कहने में संकोच हो सकता है | इसका कारण है | हाइकु क्या, कोई भोई कोई भी एनी कविता क्यों न हो, वह कविता इसलिए होती है कि उसमें 'काव्य-तत्व' होता है | अन्य काव्य-रूपों की तरह हाइकु रचना भी एक कविता ही है और इसलिए उसमें 'काव्य-तत्व' होना भी, कविता होने के नाते, अनिवार्य है | हिन्दी में इन दिनों हाइकु लेखन की बाढ सी आई हुई है | लेकिन ये हाइकु भले ही अपने कलेवर में हाइकु का अनुशासन करते हों, उनमें से अधिकतर, काव्य-तत्व के अभाव में, हाइकु नहीं कहे जा सकते | काव्य-तत्व से आशय मोटे तौर पर कथ्य की मौलिकता और अभिव्यक्ति के सौन्दर्य से है |
     जापान में 'हाइकु' और 'सेंर्यु' (सेनारियु) में एक स्पष्ट भेद किया गया है | जब हाइकु के कलेवर में कवि  सामाजिक विडम्बना और विरोधाभास पर छीटा कसता है, व्यंग्य करते हुए उनपर हंसीं उडाता है, तो ऐसी रचनाओं को जापान में सेंर्यु कहा गया है | स्पष्ट ही कथ्य की दृष्टि से हाइकु और सेंर्यु में एक ऐसा भेद है जो एक ही कलेवर की रचनाओं को दो प्रारूपों में विभाजित करता है | हिन्दी में इस विभाजन को आम तौर पर स्वीकार नहीं किया गया है | सामाजिक्र सन्दर्भ से युक्त  हास्य-व्यंग्य की हलकी-फुलकी रचनाओं को भी, जो हाइकु कलेवर को स्वीकार करती हैं, हिन्दी जगत में हाइकु ही कहा गया है | यह उचित भी लगता है | केवल कथ्य की दृष्टि से हाइकु कलेवर की रचनाओं का एक अलग वर्ग तो हो सकता है ( और इस प्रकार कविताओं को कई वर्गों में रखा जा सकता है) लेकिन उन्हें एक अलग नाम देकर उनकी एक स्वतन्त्र पहचान के लिए जिद करना हिन्दी जगत की उदार वृत्ति के अनुरूप नहीं है | हाइकु को ही यदि थोड़ा व्यापक दृष्टि से देखा जाए तो उसमें सेंर्यु सम्मिलित किया जा सकता है |
      छोटी भले हो हाइकु रचना अपने में एक पूर्ण कविता है | किसी भी हाइकु का सम्बन्ध, उसको समझ पाने के लिए, किसी अन्य हाइकु से नहीं होता | हर हाइकु अपने में स्वतन्त्र होता है | यह 'मोनेड' ('चिदणु')की तरह होता है | पूरी तरह गवाक्षहीन |वह दूसरी हाइकु रचनाओं में तांका झांकी नहीं करता | जैसे, उदाहरण के लिए, हिन्दी में हर दोहा अपने में स्वतन्त्र होता है, उसी तरह हाइकु भी है | दोहा गीत नहीं लिखे जाते | दोहा एक मुक्तक काव्य है | दोहों का, हर दोहे का, अपना एक स्वतन्त्र वजूद है | हाइकु रचना भी इसी प्रकार की होती है | हिन्दी में इन दिनों अनेक स्वनाम धन्य हाइकुकार अनेक हाइकु रचनाओं से 'गीतों' आदि, की रचनाएं कर रहे हैं | मुझे लगता है, यह हाइकु की स्वतन्त्र इकाई के प्रति बड़ा अन्याय है |
      किन्तु हाइकु के साथ कुछ प्रयोग तो मैंने भी किए हैं | 'हाइकु पह्रेलियाँ' 'सुखन हाइकु' आदि | लेकिन इन  प्रयोगों में मैंने न तो हाइकु के कलेवर से छेड़खानी की है और न ही इनकी 'स्वतंत्रता' पर आंच आने दी है | प्रस्तुत संकलन में अनेक हाइकु सामाजिक सन्दर्भ से जुड़े हुए हैं लेकिन उन्हें मैंने 'सेंर्यु' न कहक|र हाइकु-रचनाओं के अंतर्गत ही रखा है |  हाँ, हाइकु कलेवर में कुछ मूलत: व्यंग्य विनोद कविताओं का एक अलग वर्ग बना कर 'हास्य-व्यंग्य हाइकू' शीर्षक दे दिया है | मुझे जापानी भाषा नहीं आती | पर कतिपय जापानी रचनाओं के अनुवाद अंग्रेज़ी में पढ़े हैं | डा. सत्यभूषण वर्मा के कुछ मूल जापानी भाषा से हिन्दी अनुवाद भी देखे हैं इन्हीं को आधार बना कर कुछ जापानी रचनाओं की मैंने पुनर्रचना की है और उन्हें 'हाइकु जापानी गूँज' शीर्षक के अंतर्गत सम्मिलित किया है ||
      हाइकु एक कठिन विधा है क्योंकि इसमें कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक कहा जाता है |मैं आरम्भ में हाइकु तो नहीं किन्तु तीन तीन पंक्तियों की छोटी और गंभीर कवितायेँ लिखता रहा हूँ | वे 'नया प्रतीक' और 'आजकल' आदि पत्रिकाओं में प्रकाशित भी हुई हैं | आजकल (१९६६) में प्रकाशित मेरी सबसे पहली कविता हाइकु-नुमा ही थी |
    यह जिसे तुम कुकुरमुत्ता कह रहे हो
    माँ धरती के ह्रदय का दर्द है
    ऊपर उफन कर आ गया है
'नया प्रतीक' (१९७८) में 'चार छोटी कवितायेँ' शीर्षक से प्रकाशित कविताओं में एक यह भी थी --
    याद कोई रेंगती है मन में
    ज़मीन पर केंचुआ
    लकीर छोड़ता है
इसी प्रकार 'नए-पुराने' (१९७८) में 'सप्त भंगी गौरैया' शीर्षक से प्रकाशित सात कविताओं में से एक गौरैया संबंधी कविता इस प्रकार थी ---
    स्थिर होने के लिए फड़फड़ाती
    गौरैया एक बेचैनी है
    तड़प तड़प जाती
ऐसी ही रचनाओं ने हाईकु लेखन के लिए मेरी पृष्ठभूमि तैयार की | इस तरह की हाइकु-नुमा कवितायेँ हिन्दी में खूब लिखी गई हैं और आज भी लिखी जा रही हैं | इन्हें प्राय: क्षणिकाएं कहा गया है |ऐसी कविताओं में मितव्ययता के साथ भाव-उदात्तता भी देखने को मिल जाती है |
      १९९४ -९७ के बीच जब मैं वाराणसी में पार्श्वनाथ विद्यापीठ में उपनिदेशक था मुझे  जैन दर्शन के अध्ययन- अध्यापन का अवसर प्राप्त हुआ था | मुझे लगा कि जिस प्रकार जापान में हाइकु ज़ेन-दर्शन का वाहक बना, भारत में जैन-दर्शन का वाहक भी वह बन सकता है | तब मैंने हाइकु को श्रमण परम्परा से जोड़कर लगभग १०० हाइकु लिखे | ये सबसे पहले 'तीर्थंकर' (इंदौर) में जैन सूक्तिकाए शीर्षक से ९६-९७ में धारावाहिक रूप से प्रकाशित हुए | बाद में 'सूक्तिकाएं' नाम से पुस्तिका के रूप में भी पार्श्वनाथ विद्यापीठ ने इन्हें प्रकाशित किया | कमलेश भट्ट कमल ने 'हाइकु १९९९' प्रतिनिध हाइकु कविताओं का जो संकलन निकाला था उसमें इसी 'सूक्तिकाएं' पुस्तिका से मेरे हाइकु चयन किए गए |
       डा. भगवतशरण अग्रवाल ने १९९८ से 'हाइकु-भारती' पत्रिका निकालना आरम्भ किया | यह पत्रिका संभवत: २००४ तक निरंतर प्रकाशित होती रही | इसमें मेरी हाइकु रचनाओं को नियमित स्थान मिला | वस्तुत: इस पत्रिका ने मुझे हाइकु लिखने के लिए खूब प्रोत्साहित भी किया | २००१ से प्रकाशित होने वाली "हाइकु-दर्पण" पत्रिका के अबतक ९ अंक  प्रकाशित हो चुके हैं | इस पत्रिका ने भी मुझे सम्मान पूर्वक छापा है | हाइकु लेखन के मेरे विकास-क्रम में 'हाइकु-भारती' और 'हाइकु-दर्पण' इन दोनों ही पत्रिकाओं का काफी योगदान रहा है |
       एक विदेशी काव्य-विधा होने के कारण  हिन्दी हाइकु लेखन को जो प्रतिष्ठा मिलनी चाहिए थी, शायद वह अभी तक नहीं मिल पाई है | लेकिन हिन्दी हाइकु-लेखन अब धीरे धीरे परिपक्कव होता जा रहा है | हिन्दी ने कई अंगरेजी काव्य-रूपों को अपनाया है , जैसे सोनेट, आदि | फिर हाइकु से ही परहेज़ क्यों ? सच तो यह है कि अंग्रेज़ी की अपेक्षा जापान की संस्कृति हिन्दी भाषियों और भारतवासियों के अधिक नज़दीक है | हिन्दी के व्यापक विकास के लिए आवश्यक है कि वह अपनी खिड़कियाँ खुली रखे |

                                                                                                         -सुरेन्द्र वर्मा
२०-१२-०९
१०, एच आई जी
१, सर्कुलर रोड , इलाहाबाद -२११००१



अनुक्रम

हाइकु रचनाएं
हास्य-व्यंग्य हाइकु
हाइकु पहेलियाँ
सुखन हाइकु
हाइकु- जापानी गूँज
 ---------------------

डा. कमल किशोर गोयनिका   (दिल्ली) की एक संक्षिप्त टिप्पणी ---

आपके हाइकु पढ़े तो आपकी बारीक पकड़ और अभिव्यक्ति कौशल का ज्ञान हुआ | हाइकु लिखना कठिन कार्य है | विदेशी छंद है और उसकी अपनी मर्यादाएं हैं | आपके हाइकुओं में गंभीरता और विस्तार है | इनमें जीवल धड़कता है, प्रकृति बोलती है और मनुष्य का मन स्वप्न लेता है | आपके अनेक हाइकु हाइकु के इतिहास में याद किए जावेंगे |
२०.३. ०९

---------------------
पुस्तक समीक्षा : <धूप कुंदन> (हाइकु रचनाएं) /डा. सुरेन्द्र वर्मा /उमेश प्रकाशन, इलाहाबाद /२००९ /पृष्ठ ११२ / मूल्य रु. १५०/- |
                                  मन लुभाता संग्रह
                                   डा. सुधा गुप्ता
      डा. सुरेन्द्र वर्मा हिन्दी साहित्य जगत में एक जाना-माना नाम है | आप दर्शन-शास्त्र के गंभीर अध्येता तथा व्यवसाय / आजीविका के सन्दर्भ में भी उसी से जुड़े हैं | हाइकुकार के रूप में ‘हाइकु-भारती’ के माध्यम से उनकी पहचान बनी थी | इस सबके अतिरिक्त उनका समीक्षक रूप मुखर है |
    डा, वर्मा से मेरा परिचय दशकों पुराना है | मुझे याद है, अपनी नवीन प्रकाशित कृति जब भी उन्हें भेजती, अल्प समय के भीतर ही उसे पढकर पत्र द्वारा अपनी टिप्पणी भेजते.... बीच में यह क्रम भंग हो गया, मुख्य कारण तो मेरी शारीरक अस्वस्थता एवं तज्जन्य अकर्मण्यता ही रहा | हाइकु-दर्पण के किसी अंक में “धूप-कुंदन” के प्रकाशन की सूचना एवं संक्षिप्त समीक्षा पढी तो मैं प्रतीक्षा करती रही किन्तु निराश होना पडा.... मैंने आहात अनुभव किया... फिर बहुत समय बीत गया,,,,न कोई पत्राचार न कोई संवाद | २०१४ में किसी सन्दर्भ में फोन पर बात हुई तो मैंने अपनी शिकायत और उलाहना उनके सामने स्पष्ट रूप में रख दिया | सुनकर डा वर्मा अचंभित हुए |’क्या आपको धूप-कुंदन नहीं मिली? मैं तो यह सोच कर दुखी रहा की सुधा जी ने पुस्तक प्राप्ति-स्वीकार भी नहीं भेजी | कुछ रुककर फिर कहा, “तुरंत भेझता हूँ |” सब धूल साफ़ हो गई | देखा, गलत-फहमियाँ कितनी बेबुनियाद (भी) हुआ करती हैं |
    एक सप्ताह के भीतर दो पुस्तकें प्राप्त हो गईं | <धूप-कुंदन> और <उसके लिए> | कविता संग्रह <उसके  लिए> में बहुत छोटी, मार्मिक क्षणिकाएं हैं और स्वयं डा. सुरेन्द्र वर्मा द्वारा किया हुआ रेखांकन है | निश्चय ही इस  कविता-संग्रह पर पृथक से विस्तार में लिखने की आवश्यकता है | पर फिलहाल, बात <धूप कुंदन> की |
    जैसा की पूर्व में कहा गया, डा. सुरेन्द्र वर्मा अनेक विधाओं के रचनाकार हैं | एक ओर दर्शन एवं नीति- शास्त्र पर गंभीर गद्य-लेखन (निबंध) दूसरी ओर व्यंग्य, कविता, हाइकु जैसी विधाएं | एक नया शौक़, चित्रकारी का विक्सित हुआ है | हाइकु-लेखन में पर्याप्त प्रसिद्धि है | सर्वप्रथम श्री कमलेश भट्ट “कमल” द्वारा संपादित <हाइकु-१९९९> में मैंने पढ़े थे मैंने सात हाइकु, जिनमें उनका ‘दर्शन’ झिलमिलाता है |
० मौत पर है / एक तीखी टिप्पणी / यह ज़िंदगी                                                                   ० सुख हमारे / भागती-सी शाम की / परछाइयां   
यथार्थ से जुड़ा यह हाइकु भी मुझे बहुत अच्छा लगा –                                                               ० धरती पर /यदि टिके रहे तो / नभ छू लोगे  ||
    उस समय तक उनकी हाइकु छंद में रची श्रमण-सूक्तियां “सूक्तिकाएं” प्रकाशित हो चुकी थीं जो काफी चर्चित रहीं |
    <धूप-कुंदन> ११२ पृष्ठ की आकर्षक आवरण वाली सजिल्द पुस्तक है | “प्राक्कथन-हिन्दी हाइकु” में हाइकुकार ने संक्षेप में इस विधा पर अपने सुलझे हुए विचार प्रस्तुत किए हैं | धूप-कुंदन विविध वर्णी रचना है जिसमें अनुक्रम इस प्रकार है – (१) हाइकु रचनाएं (२) हास्य-व्यंग्य हाइकु (३) हाइकु पहेलियाँ (४) सुखन हाइकु (५) हाइकु जापानी गूँज |
    प्रथमत: हाइकु रचनाएं शीर्षक में ६४६ हाइकु हैं | तत्पश्चात, ३२ हास्य-व्यंग्य, १५, पहेलियाँ, ०८ सुखन हाइकु तथा २७, जापानी गूँज – कुल संख्या ७२८ |
हाइकु रचनाओं के कुछ खूबसूरत हाइकु –
१) उगता चाँद / संग डूबता सूर्य / जीवन-मृत्यु                                                                      २) करकते हैं /जो पूरे नहीं होते / आँखों में स्वप्न                                                             ३) कितनी मौतें / भोगी मैंने, जीवन / एक इसी में
हाइकुकार अकेलेपन की पीड़ा को इस प्रकार अंकित करता है –
४) घिरती सांझ / घिरता सूनापन / जान अकेली                                                                      ५) कभी डराता / कभी तसल्ली देता / अकेलापन                                                             ६) फरनीचर / भरा हुआ है घर / कितना खाली                                                             ७) मिट न पाया / भीड़ में रहकर / अकेलापन
हाइकुकार की यही दार्शनिक वृत्ति उसे जीवन के विभिन्न पक्षों को तटस्थ रहकर एक दृष्टा की भाँति देखने को प्रेरित करती है |
   डा, वर्मा को प्रकृति से प्रेम है | और उनकी कूची ने सुन्दर प्रकृति दृश्यों का चितांकन किया है |
८) पहने साड़ी / सरसों खेत खड़ी / ऋतु वासंती                                                                      ९) फूले पलाश / कोयल बोले बैन / चैट उत्पाती                                                        १०) लुटाती मस्ती / बयार ये वासंती / फगुनहट     (वसंत)                                                                    ११) तपे आग में / अमलतास टेसू / उतरे खरे                                                                     १२) दस्तक देती / महक मोगरे की / खोलो कपाट     {ग्रीष्म)                                                                    १३) दबी धरा में / मुक्त हो गई गंध / स्वागत वर्षा    (पावस)                                                                   १४) नाचती हुई / आती हैं धरा पर / पीली पत्तियाँ                                                              १५) पग पग पे / पापड सी टूटतीं / पीली पत्तियाँ     (शिशिर)
    एक शालीन साहित्यकार अपनी प्रणय-भावना भी परिष्कृत रूप में अभिव्यक्त करता है, डा,वर्मा इसके प्रत्यक्ष प्रमाण हैं –
१६) तुम्हारा आना / दो पल रुक जाना / दो-दो वसंत                                                               १७) तुम आईं तो / धूप खिली आँगन / ऋतु बदली
प्रिया की स्मृतियाँ भी सुखद हैं –
१८) याद तुम्हारी / सर्दियों में धूप सी / आती सुखद                                                                १९) पन्नों में दबी / पीली पांखुरी गिरी / हो गई ताज़ी
    प्राय: प्रत्येक संवेदनशील रचनाकार के जीवन में कभी न कभी ऐसा होता है की यदि कोई विचार या भाव मन में आ जाए, जबतक अभिव्यक्त न हो जाए तो मन बेचैन हो उठता है, नींद नहीं आती, आदि | डा, वर्मा ने इसे यूं कहा है –
२०) जगता रहा / हाइकु सारी रात / उचटी नींद
    प्रतीकों के सुन्दर प्रयोग इस काव्य संग्रह की विशेषता है | प्रतीकार्थ ध्वनित होते हैं, अभिधार्थ बहुत पीछे छूट जाता है और वास्तविक अभिप्रेत अर्थ पूरी तरह पाठक को बाँध लेता है  ---
२१) लड़े जा रही / अपने ही बिम्ब से / मूर्ख चिड़िया                                                                  २२) शिशु चिड़िया / को मोह रहा कब / फूटे अंडे से                                                              २३) प्यासा परिंदा / भरे घट तक आ / गिरा बेसुध                                                                 २४) दबंग दिया / जलते रहने की / जिद में बुझा
    ‘हास्य-व्यंग्य हाइकु’ पाठक का मनोरंजन करने में समर्थ हैं | “शब्द’ से उत्पन्न चमत्कार दर्शनीय है ---
२५) मनहूसियत / ओढ़ कर पड़े हैं / श्री बोरकर                                                                    २६) श्रीमती गंधे / उचकाती हैं कंधे / डालती फंदे
    राजनीति के सन्दर्भ में श्लेषार्थ प्रकट होते ही ‘साहित्य’ का सौन्दर्य खिल उठा है | ---
२७) गाय को मिली / रोटी अनुदान में / खा गया कुत्ता                                                                          २८) सर्प नाचते / भैंस बजावे बीन / ऋतु रंगीन                                                                    २९) कुत्ता उसका / पूर्व जन्म का मित्र / पूंछ हिलाता
    पहेलियाँ और सुखन हाइकु पढ़कर पाठक निश्चय ही अपने बचपन में लौट जाता है | हाइकु –जापानी गूँज, के अंतर्गत जो हाइकु दिए गए हैं, वे सीधे अनुवाद न होकर छायानुवाद / भावानुवाद हैं | अत: अनुगूँज की सा- र्थकता सिद्ध हो जाती है |
    शीर्षक हाइकु से समापन करती हूँ –
३०) लुभावे मन / जाड़े की सर्दी में / धूप कुंदन
<धूप कुंदन> हाइकु संग्रह सचमुच मन लुभाता है | अशेष शुभकामनाएं |

                                                                     डा. सुधा गुप्ता

१२० बी /२, साकेत, मेरठ (उ, प्र.)

रविवार, 30 अप्रैल 2017

दहकते पलाश

मैं और मेरे ग्रंथ  (१) दहकते पलाश

दहकते पलाश 
(हाइकु-संग्रह)
अयन प्रकाशन , महरौली, नई दिल्ली 
प्रथम संस्करण २०१६ @डा. सुरेन्द्र वर्मा 
मूल्य : २२०.०० रुपये
                                   हिन्दुस्तानी अकादमी, इलाहाबाद, में दहकते पलाश का विमोचन
                                                प्रसिद्द गीतकार श्रीमती सुषमा सिंह द्वारा संपन्न |

दो शब्द 
   'सूक्तिकाएं' और 'धुप कुंदन' के बाद 'दहकते पलाश' मेरा तीसरा हाइकु संग्रह है | इसमें मैंने करीब ३३५ हाइकु संकलित किए हैं | 
    इन दिनों हाइकु परिवार की अन्य विधाओं पर भी हिन्दी रचनाएं खूब लिखी जा रहीं हैं | मैंने इस विधा में कम ही लिखा है, लेकिन कुछ 'तांका' और 'सेदोका' सम्मिलित कर लिए हैं | 
    पीछे दो संकलनों से मुझे सहृदय पाठकों से जो कुछ प्रतिक्रियाएं मिली हैं, उनमे से कुछ इस पुस्तक में 'परिशिष्ट' में डाल दी गईं हैं | मेरे पास नाहक ही अनदेखी पडी रह जातीं | 
    मेरा हाइकु-लेखन लगभग ठप्प-सा हो गया था | लेकिन पिछले वर्ष से इसमें थोड़ी गति आई है | इसका श्रेय ई-पत्रिका "हिन्दी हाइकु" को जाता है; प्रकारांतर से श्री रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' और डा. हरदीप संधु को जाता है | मैं इन दोनों रचना कारों का शुक्रगुजार हूँ | मैं अयन प्रकाशन को भी धन्यवाद देता हूँ, जिसने इस संकलन को सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया है |
                                                                             -सुरेन्द्र वर्मा 

अनुक्रम
खंड १ (हाइकु)
चांदनी रात में 
यह वक्त है 
दाम चुकाओ 
ऊंचा गंभीर 
जो है एकाकी 
खरा जल 
आस पास ही 
खाएं खजूर 

खंड २(तांका  और सेदोका)

१, तांका
२, सेदोका 

* परिशिष्ट 
-------------------------------- 

                    पुष्पा मेहरा की समीक्षा           
       दर्शनशास्त्र के वरिष्ठ अध्येता,कवि,चिन्तक,लेखक,व्यंग्यकार,समीक्षाकार ,रेखाकार,हाइकुकार आदि विशेषणों से सर्वमान्य वर्मा जी का हाइकु-संग्रह ‘दहकते पलाश’ हाथ में आते ही सर्वप्रथम मन प्रश्न पूछने लगा कि रंग और गुणों से सम्पन्न,बसंत और फाग के रंग में फूला पलाश आखिर कवि मन को दाहक क्यों लगता है ,क्या एक ओर इसका गुनगुना सा मादक रंग,खिला –निखरा –निष्कलुष रूप, इसका तिर्यक भ्रूविलास और दूसरी ओर माया जनित सौन्दर्य और गुणों –अवगुणों के दर्पण को निहारता मानव मन स्वाभाविक स्पर्धा वश ईर्ष्या की आग में दहक उठता है ! ये सारे प्रश्न जो मेरे मन को कुरेद रहे थे उनके उत्तर मुझे इस संग्रह रूपी सागर में अवगाहन करने से स्वमेव ही प्राप्त हो गए |
            वास्तव में यह हाइकु-संग्रह, एक कुशल सम्वेदनशील रचनाकार के मनोभावों ,गहन विचार ,गम्भीर सोच का, नाना बिम्बों –प्रतिबिम्बों के माध्यम से गढ़ा देश व समाज का स्पष्ट आइना है | पलाश का फूल एक साधारण फूल नहीं वह तो पुष्पराग है उसका स्वरूप तथा उसमें स्वयं को पूर्णतया समा लेने की मानव मन की अतिशय अप्राप्य लालसा ही मन को दग्ध करती है , तुलनात्मक दृष्टि से देखें तो सारा जड़ –चेतन यानि कि सारा संसार चकित कर देने वाले विरोधाभास से गुज़र रहा है | एक  ओर यह संसार हँसते –खिलखिलाते पलाशवन की भाँति मोहक है तो दूसरी ओर प्रकृति,परिवार और समाज की नाना प्राकृतिक व स्वपोषित विसंगतियों से भरा पड़ा है जो कभी हमें उनसे निपटने का सुलझा मार्ग सुझाती हैं तो कहीं हमें असहाय बना के छोड देती हैं | प्रकृति समाज और उसकी इकाई इन्सान यहाँ तक की पशु –पक्षी,वन्य प्राणी सभी तो इसी घेरे में आबद्ध-संघर्षरत हैं इन्हीं भावों का चित्रण वर्मा जी ने ८ खंडों और उपखंडों में विभाजित इस हाइकु संग्रह में कुशलता से किया है | शेष रहा परिशिष्ट तो वह तो उनकी अन्य रचनाओं के प्रति वरिष्ठ साहित्यकारों के अभिमत की गूँज है | संक्षेपत: वर्मा जी ने जीवन-जगत के हर पक्ष को अपने हाइकु के माध्यम से वाणी दी है ,मैंने  इन्हीं तथ्यों पर प्रकाश डालने का,दूसरे शब्दों में रचनाकार की अनुभूतियों को स्वयं भी हृदयंगम कर उनको उकेरने का छोटा सा प्रयास किया है | 
   जन्मदात्री माँ की तरह धरती भी तो हमारी माँ ही है वह तो स्वर्ग से भी महान है, पूज्य है,सर्वोपरि है अत: वर्मा जी सर्वप्रथम धरती माँ की दयनीय स्थिति को याद करते हुए यह बताना नहीं भूलते कि नाना दु:खों को सहती-सदा शांत रहने वाली धरती दारुण दुःख का आघात पा जब कभी काँप कर अपनी पीड़ा का हमें अहसास करा देती है | शांति का साकार रूप धरा जब, प्राकृतिक आपदा भूकम्प के असह्यआघातसे अपनी प्रतिक्रिया दिखाती है तो मानवीय सम्वेदना की अनुभूति मन को उसकी मूक पीड़ा का अहसास कराने से नहीं चूकती, निम्न हाइकु मानवीकरण का उत्कृष्ट उदाहरण है –
भूकंप आया
शांत धरा का दुःख
समझ पड़ा |
      ग्रीष्मऋतु की विभीषिका,गर्म लू के थपेड़े, जलाभाव से संत्रस्त पशु –पक्षी की व्यथा चंद वर्णों में मुखरित हो रही है | दहकती गर्मी का दृश्य प्रस्तुत करता मर्म भेदी निम्न हाइकु मन को हिला रहा है -
.  गर्म हवाएँ
 धरती पर निढाल
 हाँफता कुत्ता |

   चिड़िया प्यासी
नल की सूखी टोंटी
चोंच मारती |
        सिक्के के दो पहलू की भाँति जीवन के भी दो पहलू की ओर इंगित करता अनुभवों की लड़ी पिरोता निम्न हाइकु जीवन की सच्चाई बता रहा है-
कुछ कड़वी
निबौली सी ज़िन्दगी
कुछ मीठी सी |
             पर्यावरण के प्रति जागरूक कवि जब देखता है कि जंगल कटते जा रहे हैं,मनुष्यों में बहशीपन बढ़ता जा रहा है, मनुष्य मानवीय आचरणों को भूल अमानुषिक व्यवहार करने पर उतारू है तो सहृदय मन चीत्कार कर स्वयं से और हम सबसे प्रश्न पूछता है कि बताओ तो ज़रा-
जंगल कटा
जंगलीपन बढ़ा
कैसा विकास |
     उद्धृत है मौसम पर आश्रित घटते-बढ़ते समय की उपमा रबर से कर नया  उपमान प्रस्तुत करता निम्न हाइकु –
यह वक्त है
रबर सा खिंचता
सिकुड़ता है |
   आज की स्वार्थी दुनिया में सभी अपने में खोए हैं ,एक दूसरे के दुःख –दर्द को सुनने –समझने व बाँटने वाला कोई भी नहीं है ,ऐसे आत्मकेंद्रित समाज की करुणा जगाने वाली स्थिति का दृश्य मात्र नन्हे हाइकु में समा कर इसकी गूढ़ता को दुगना –चौगुना कर रहा है –
सिमट रहे
घरों में लोग ,चीखें
बुलाती रहीं |
चाटुकारिता का विरोध करते हाइकु के स्वरों का उद्घोष देखते ही बनता है –
जी –हाँ –जी,स्वर
है नहीं सामयिक
करें विरोध |
     एक चिंतन शील विचारक जब जीवन –जगत से जुड़ा डगमगाती सामाजिक स्थिति,अराजकता,बेरोजगारी,अशिक्षा,संकीर्णता,आतंक,हत्या-आगजनीसी भयावह स्थितियों के अनुभवों से गुजरता है तो उसके सारे अनुभव शब्दों में ढल कर प्रश्न बन जाते हैं और उत्तर खोजता –असहाय समाज नि:शब्द रह जाता है,      डॉ.वर्मा जी का निम्न हाइकु इसी का प्रमाण है –
कहाँ खो गयी
दिलों में इंसानों के
इंसानियत |
     भरोसे की कमी ही परस्पर नाते –रिश्तों में फूट डालने का काम करती है और आपसी उदासीनता का कारण भी ,साथ में सदा सर चढ़ बोलने वाला अहंकार हर असंयमित व्यक्ति के मन की कोठरी से उछल –उछल कर उसी प्रकार बाहर आ जाता है जिस प्रकार हाथ की उँगली में पहनी गयी हीरे की अँगूठी की चमक–झलक छिप ही नहीं पाती ,ऐसे बिंब प्रधान हाइकु तो आम व्यक्ति के मनोभावों को सहजता से खोल कर रख देते हैं देखिये –
ऐसे या वैसे
भरोसा ही न रहा
जुड़ते कैसे |      

कैसे छिपाऊँ
अहं हीरे की कनी
अँगूठी जड़ी|
         डॉ.वर्मा जी का दार्शनिक मन मायावी चकाचौंध में फँसे, जीवन-जगत की लुभावनी सच्चाई से अनभिज्ञ- अज्ञानी लोगों को सचेत करते हुए कहता है कि सुनो तो जिसे हम देख- सुन रहे हैं, जिसे हम सत्य मान रहे हैं वह सत्य नहीं है  -
देखा जो भी
केवल सत्याभास
सत्य नहीं था |  
    एक अज्ञात रहस्य में जीता, माया के चक्रव्यूह में फँसा व्यक्ति सत्य –असत्य का भेद नहीं समझ पाता ,जो दृश्यमान है वह सत्य नहीं है इस तथ्य को या तो जानता ही नहीं है या जानकर भी नहीं समझता कि ‘ब्रह्म सत्यम जगत मिथ्या,’ भ्रममें भूला ये मानव मन ही तो है जो मुझे भी लिखने को बाध्य कर है रहा कि सदा – ‘पालता भ्रम\रस्सी में साँप का\हमारा मन’ |
     वास्तव में जग की रीति यही है कि कर्म कोई करता है और उस कर्म से प्राप्त सुख का उपभोग कोई अन्य ही करता . दूसरे शब्दों में कुआँ कोई खोदता है पानी कोई पीता है , मंच कोई सजाता है, स्क्रिप्ट कोई लिखता है और अभिनय कोई दूसरा ही करता है|  वस्तुत:वर्मा जी के जिस हाइकु को मैं उद्धृत कर रही हूँ वह उस छोटी सी बंद डिबिया की तरह है जिसको खोलने से कई झिलमिलाते रंग छिटक जाते हैं , प्रस्तुत है बहु भावार्थी हाइकु –
कोई उठाए
पालकी और बैठे
पालकी कोई |
   क्षमा कीजिएगा उपरोक्त हाइकु को पढ़ कर मैं स्वयं इसके दार्शनिक पक्ष की ओर बढ़ती हुई लिखने को विवश हो रही हूँ कि –
 जगत मंच
 मन के नेपथ्य में
 है सूत्रधार |                   
          हर सजग कवि या कहानीकार सामयिक प्राकृतिक विषमताओं के अच्छे  – बुरे प्रभावों से प्रभावित अपनी मन:स्थिति के अनुरूप अपनी रचना की विषय-वस्तु अवश्य चुनता है, यही कारण है कि पर्यावरण के विनाश से उत्पन्न भयावह स्थितियों का सामना करते कवि मन की सम्वेदना निम्न हाइकु में उभर कर आई है –
बाढ़ दुर्भिक्ष
तूफ़ान ज़लज़ला
घर उजड़े |
     बुद्धि चातुर्य के लिए साक्षर होना आवश्यक नहीं है यह मानना अनुचित न होगा कि साक्षरता बुद्धि को माँजती भर है बहुत सी अनपढ़ नारियाँ विद्वान पुरुषों को हर क्षेत्र में पीछे पछाड़ने की क्षमता रखती रही हैं और रखती भी हैं,निम्न हाइकु इसी भाव को दर्शा रहा है –
अनपढ़ स्त्री
साक्षर पुरुषों पे
पड़ती भारी |
     शब्दों में संसार को समाहित करने की शक्ति होती है, बाजारवाद के इस युग में अर्थ के बिना सब व्यर्थ है इस पर व्यंग्य कसते हुए कवि का कहना है -
ईश्वर नहीं
है सर्वशक्तिमान
पैसा,बाज़ार |    
  कैसी विडम्बना है कि इस अर्थ युग में मानवीय मूल्यों का भी व्यापार हो रहा है, पढ़ते ही असहाय मन विगलित हो उठता है कि देखो तो- 
दाम चुकाओ
मूल्य तक बिकते
बाज़ार विच |
       वर्मा जी ने जहाँ मूल्यों के अवमूल्यन को स्वीकारा है वहीं माता –पिता के रिश्तों की गरिमा,भावनात्मक स्तर पर अपनी संतानों के प्रति उनका अटूट जुड़ाव तथा स्थायित्व का जो उत्कृष्ट उदाहरण निम्न हाइकु के माध्यम से चित्रित किया है वह परोक्ष रूप से माता –पिता के प्रति कर्तव्यबोध कराता बार –बार पढ़ने,समझने व से उन्हें हृदय से लगाये रखने की प्रेरणा दे रहा है -
.ऊँचा गम्भीर 
 अचल हिमालय
 पिता सरीखा |

.बदला वख्त
 माता और पिता श्री
 कब बदले |
      जिस प्रकार खादी का कम्बल शुरू में तो शरीर को चुभन देता है किन्तु धीरे-धीरे वही शीत से ठिठुरती काया को गर्मी का सुख देता है उसी प्रकार माता –पिता द्वारा दी गयी नैतिक शिक्षाएँ भी स्वतंत्र विचारों वाली संतानों को आरम्भ में तो बुरी अवश्य लगेंगी किन्तु जीवन के मैराथन में कहीं न कहीं सहायक होती हैं | निम्न हाइकु में इस भाव की लाक्षणिक अभिव्यंजना ग्राह्य है –
खादी कम्बल
चुभता तो बेशक
गरमी देता |
     पारिवारिक सम्बन्धों में भाई –भाई के सम्बन्धों के विघटन से उद्वेलित मन से उपजा अनुत्तरित प्रश्न पाठक की सोच को झिन्झोरता है पर प्रश्न का उत्तर तो मानसिक तनाव के चक्रव्यूह से निकल ही नहीं पाता, उसने तो चक्रव्यूह भेदना सीखा ही नहीं, भाव की सहज अभिव्यंजना निम्न हाइकु में व्यंजित हो रही है –
एक जगह
हम पले–बढ़े,क्यों
अलग खड़े |
      पुस्तकें जो हमारे ज्ञान का श्रोत हैं, नैतिक शिक्षा- प्राप्ति का उपलब्ध साधन हैं उनसे प्राप्त सतज्ञान को जीवन में अपनाने की प्रेरणा देता निम्न हाइकु आदर्श वाक्य की तरह प्रस्तुत है -
ढंग जीने का
सीखा जो पुस्तक से
उसे उतारो |
    हम सदैव दीपक से प्रकाश की अपेक्षा करते हैं अर्थात् सारे आदर्शों को हम   दूसरे में ही देखना चाहते हैं परन्तु मानव मूल्यों व सिद्धांतों की लीक का स्वयं  अनुपालन  करते हुए समाज के सम्मुख आदर्श प्रस्तुत करने की चाह करते भावों से भरी आवाहन करती लेखनी कहती है - 
स्नेह उड़ेलो
स्वयं ही बनो दीप
उजियारा दो |
      श्रम का महत्व तथा एकता में बल का सकारात्मक संदेश देते अकर्मण्यता व अलगावबाद के वरोधी हाइकु समाज को सही दिशा सुझा रहे हैं देखिये -                         
.गहरा खोदो
 पाओगे जल मीठा
 कर्मठ ज्ञान |    

 कंधे से कंधा
 मिला करके चलें
 पहुँच जाएँ |
          साक्षरता और ज्ञान मनुष्य की बुद्धि का विकास कर पशुओं से ऊँचा उठा, उन्हें तर्क संगत दृष्टिकोण देता है, पशुओं का तो बौद्धिक विकास ही पूरा नहीं हो पाता , उनके लिए ज्ञान का होना न होना बराबर है,निम्न हाइकु इंसानों के लिए शिक्षा के महत्व का संकेत कर रहा है -
 पशु समान
 यह मानव देही
 बिना ज्ञान के |

 लीक-अलीक
 दोनों ही पथ खुले
 चुनना तुम्हें |




     डॉ.वर्मा जी के शब्द –शब्द में उनके अनुभवों की गहरी खनक है ,प्रस्तुत है       
अनुभूत सम्वेदना का निम्न भाव –
रोगी समाज
कहीं भी रखो हाथ
दर्द ही दर्द |
  उपरोक्त हाइकु नानक साहब के कहे शब्दों की कड़ी में कड़ी बन जुड़ रहा है कि ‘’नानक दुखिया सब संसारा’ |
        भाग्य व नियति को हम सभी मानते हैं और यह भी समझते हैं कि हम कितना ही पंडितों से, घटने वाली अच्छी –बुरी घटनाओं के पल –छिन, दिन वा समय की जानकारी लेना चाहें किन्तु सम्भव नहीं हो पाता ना ही होनी को कोई टाल ही पाता है, जो होना है वह तो चुपचाप हो कर ही रहेगा,नियति की महिमा बताता तथा उस पर विश्वास करता वर्मा जी का हाइकु कहता है कि –
चुपचाप ही
होता है सब कुछ 
अपने आप |
       दुःख में अपने ही काम आते हैं दूसरे नहीं ,अपनेपन की आँच को गह्माता अपनत्व के बंधन में मन को बाँधने का सहज आग्रह करता हाइकु, कवि मन की निष्कलुष-सरल छवि उभार रहा है |प्रस्तुत है सत्यता पर टिका हाइकु जो पाठकों को भटकने से रोकना चाहता है –
कोई न आया
हाथ अपना ही था
वो काम आया |
   परिवार ,समाज तथा राजनेताओं पर तीखा व्यंग्य बाण छोड़ता निम्न हाइकु अपनी अभिव्यंजना का सानी नहीं रखता –
चुपड़ी रोटी
लूट खाई पराई
मानो न मानो |
    समाज में जाति व वर्ग गत भेदभाव का विरोधी कवि मन निम्न हाइकु के माध्यम से बता रहा है की हम सब इन्सान एक समान हैं, कोई भी छोटा या बड़ा नहीं है, भाव की लाक्षणिक अभिव्यक्ति मन को कुछ सोचने के लिए विवश करती है –
पाँचों ऊँगली
सभी एक नाप की
मानो न मानो |
     जिस प्रकार वर्मा साहब जी के हाइकु में आपके भावों –अनुभावों की गूँज है उसी प्रकार ताँका व सेदोका में भी उनके अनुभवों का ताप है,तभी तो बर्फ़ का ठंडा शांत–निर्लिप्त टुकड़ा भी मानवी स्पर्श पा द्रवित हो ही जाता है,अर्थात स्नेहिल  सम्बन्धों की ऊष्मा हर शांत-तटस्थ मन को भी पिघला देती है | उदाहरण के रूप में प्रस्तुत है निम्न ताँका –
बर्फ़ का ठंडा
टुकड़ा ही क्यों न हो
शांत –निर्लिप्त
मानवी स्पर्श पाके
पिघल ही जाता है |        
   निम्न ताँका में नदी से प्रेरणा लेकर निरंतर आगे बढ़ कर ही लक्ष्य की प्राप्ति करना,अर्थात् अंतिम मंजिल पाने के लिये संघर्षों से टक्कर लेते हुए गति को ही जीवन की सार्थकता मानते हुए कवि ने लिखा है –
नदी बहती
कंकड़ों से जूझती
लक्ष्य पा जाती
क्यों न मैं आगे बढूँ
झंझटों से क्यों डरूँ |
         अंतिम सृजन खंड में मानवीय सम्वेदना से अभिभूत मन, मानवी अत्याचारों से रूँधी – गूँधी मौन,सहनशील ऊपर से कठोर पर भीतर से कोमल धरती से ही प्रश्न करता है कि बताओ तो –
धरती तुम
सतह पर सख्त
अंदर नीर –भरी,
कितने आँसू
रखे सुरक्षित हो
कोई नहीं जानता |
     उपरोक्त सेदोका मानवीकरण का सुंदर उदाहरण होने के साथ ही हर सहृदय मन को अभिभूत करने में पूर्णत: समर्थ है ,मुझे यह लिखने में संकोच नहीं हो रहा     
कि हमारी जीती –जागती माँ की भाँति यह धरती जितनी ऊपर से शांत,स्थिर व दृढ़ दिखती है भीतर से उतनी ही कोमल व सहृदय है,सदानीरा धरती की पीड़ा उसी की तरह अथाह है , उसके भीतर कितने आँसुओं का समन्दर समाया है हममें से कोई भी नहीं जान सकता, शायद शोषण से आहत की पीड़ा अव्यक्त ही रहती है ! 
      निष्कर्षत: मैं इतना ही कहना चाहूँगी कि सम्माननीय डॉ.वर्मा जी का हाइकु संग्रह ‘दहकते पलाश‘आपके अनमोल भाव रंगों का सागर है,चाँदनी रात में जिसकी  तरंगों के साथ जीवन के ज्वार –भाटे के अनुभवों को आपने भरपूर जिया ही नहीं अपितु अपनी काव्य मंजूषा में सम्पूर्ण रूप से परत दर परत सहेज कर रख दिया, यही कारण है कि इस मंजूषा की जो भी परत खुलती है उससे एक कुशल–जागरुक शब्द शिल्पी का संदेश उभर कर आता है | सारांशत: -
     अनुपम हैं
     दहकते पलाश
     रंग ही रंग |



दहकते पलाश (हाइकु-संग्रह) : डा. सुरेन्द्र वर्मा / अयन प्रकाशन, नई दिल्ली / २०१६ / पृष्ठ १०४ / मूल्य, २२० रु. ||

                              एक उम्दा हाइकु-कृति

                            प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

    हिन्दी हाइकु आन्दोलन को आगे बढाने में डा. सुरेन्द्र वर्मा जी का नाम हिंदी हाइकु साहित्य में अग्रगण्य है | <दहकते पलाश> डा. सुरेन्द्र वर्मा का तीसरा हाइकु संग्रह है | एक बेहद आकर्षक मुख-पृष्ठ के साथ अयन प्रकाशन, दिल्ली, से प्रकाशित १०४ पृष्ठ की इस उम्दा हाइकु कृति की साज-सज्जा बेहतरीन है | संग्रह दो खण्डों में विभाजित है | प्रथम खंड में उत्कृष्ट हाइकु तथा द्वितीय खंड में २२ उत्कृष्ट तांका व ११ उत्कृष्ट सेदोका संग्रहीत हैं | परिशिष्ट में हाइकु विद्वानों की टिप्पणियों ने हाइकुकार की विद्वत्ता को उजागर किया है |
    संग्रह में प्रथम खंड के हाइकु आठ भागों में विभाजित हैं | प्रत्येक पृष्ठ में पांच हाइकु हैं, जिनमें कई तो मन पर सहज ही अमिट प्रभाव छोड़ जाते हैं –
चिड़िया रानी / नल की सूखी टोंटी / चोंच मारती   (पृष्ठ, ११)
डाली पलाश / रक्ताभ हुई, आया / बसंत राज     (पृष्ठ, १५)
फूली सरसों / रंग लाई नारंगी / गेंदा बौराया      (पृष्ठ, १६)
जलाते नहीं / दहकते पलाश / भरते रंग         (पृष्ठ, २१)
    प्रथम खंड के दूसरे से आठवें भाग तक की रचनाओं में सामाजिक सन्दर्भ तथा विभिन्न सामाजिक विसंगतियों के विरुद्ध उठी आवाज़ मुखरित है, और साथ ही प्रकृति के उत्कृष्ट बिम्ब भी समाहित हैं, ---
ऊंचा गंभीर / अचल हिमालय / पिता सरीखा
फूटी किरणें / स्नेह भरे दीपों की / फूटे अनार
    मुहावरों के सुन्दर प्रयोग भी मन मोहते हैं –“नाच न जाने / बेचारी करे तो क्या / आँगन टेंढा”      (पृष्ठ ६६)
    संग्रह के कुछ हाइकुओं में वर्नानुशासन की कमी अवश्य खटक रही है, परन्तु इनके भाव गंभीर हैं, ---
कितनी पीर / पी गया पर्वत / धाराएं फूटीं       (१६ वर्ण – पृष्ठ १४)
नभ निर्मल /  झिलमिलाती चांदनी / शरदोत्सव   (१८ वर्ण – पृष्ठ २४)
आज सवेरे / एक पंक्ति कविता / दिन अच्छा    (१६ वर्ण – पृष्ठ ४३)
दीप ने कहा / लड़ो अन्धकार से / यही संकल्प   (१८ वर्ण – पृष्ठ ४९)
खारा जल / आँखों के सागर में / कौन पी पाया? (१६ वर्ण – पृष्ठ ६०)
    हाइकु विधा के प्रोढ़ हाइकुकार डा. सुरेन्द्र वर्मा जी के <दहकते पलाश> हाइकु संग्रह में उनके उत्कृष्ट मानसिक हाइकु-बिम्बों के साथ-साथ कई उत्कृष्ट प्राकृतिक हाइकु-बिम्ब भी संरक्षित हुए हैं | हाइकु जगत में <दहकते पलाश> का एक उत्कृष्ट हाइकु संग्रह के रूप में स्वागत होगा | मुझे यह कहने में तनिक भी संकोच नहीं है कि वरिष्ठ हाइकुकार आदरणीय डा. सुरेन्द्र वर्मा जी का नाम हाइकु इतिहास में बड़े आदर के साथ स्वर्णाक्षरों में लिपिबद्ध किया जाएगा |


साहित्य प्रसार केंद्र, सांकरा ,रायगढ़ (छत्तीसगढ़) 



                       संतोष कुमार सिंह : दहकते पलाश पर अभिमत

   हाइकु सत्रह अक्षरीय अतुकांत और छंद-मुक्त कविता है | इसमें कुल तीन पंक्तियाँ होती हैं | इन तीन पंक्तियों की सार्थकता अनिवार्य है अन्याथा तीनों पंक्तियाँ सिर्फ हाइकु का ढांचा ही कहालावेंगीं, हांइकु तो कदापि नहीं |
  हाइकु आवेगों की अभिव्यक्ति की कविता है जो क्षणिक अनुभूति कराती है | हाइकु का प्रकृति के साथ अनंत सम्बन्ध है किन्तु इसे प्रकृति का काव्य नहीं कहा जा सकता | ऋतु-बोध हाइकु की विशिष्ट पहचान है |    सूक्तियां और लोकोक्तियाँ प्रयुक्त कर हाइकु नहीं रचा जाता | हास्य-व्यंग्य भी हाइकु का विषय नहीं रहा है |
   डा. सुरेन्द्र वर्मा जी का हाइकु संग्रह, ‘दहकते पलाश’ का मैंने आद्योपांत अवलोकन किया है | पुस्तक का नाम ही प्रकृति का बोध कराता है | इसे पुस्तक के अन्दर हाइकुओं का सम्बन्ध प्रकृति के साथ होने का सूचक समझा जाना उपयुक्त लगता है और डा. सुरेन्द्र वर्मा ने ऐसे हाइकु तराशे भी हैं | देखें –
रूठी थी कली / वासंती सुगंध ले / भरी तो खिली
झड़े पल्लव / कैसे बने घोंसला / पक्षी उदास
जलाते नहीं / दहकते पलाश / रंग भरते
क्रोधी सूरज / तनकर चलता / पारा बढ़ता
लपेटे रही / कोहरे की चादर / बेचारी धूप
   मानव की परिस्थिति जन्य विवशता का सजीव चित्रण देखने लायक है --
पानी के बिना / तन तरबतर / हलक़ सूखा
   वर्मा जी लोगों को समय की महत्ता बताने की चेष्ठा करते हुए कहते हैं ,
यह वक्त है / रबर सा खिचता / सिकुड़ता है
    हाइकुकार की सहृदयता पर्यावरण संरक्षण के प्रति भी झलकती है | देखें एक हाइकु जिसमें एक पेड़ की महत्ता को वह किस प्रकार दर्शाता है –
नीम हकीम / मत समझो नींम / बड़ा हकीम
    जब कोई हाइकुकार प्रकृति का मानवीकरण करते हुए अपना हाइकु रचता है तब वह हाइकु जीवंत हो उठता है और अति-विशिष्ट बन जाता है | देखें ऐसे ही दो हाइकु जो वर्मा जी की लेखनी से निसृत हुए हैं ---
सारे गाँव पे / रखता है नज़र / बूढा दरख़्त
माटी वन्दना / समर्पण में झरा / हर सिंगार
     हिन्दू धर्म में वर-वधू का परिणय-सूत्र कच्चे धागों का बंधन कहलाता है, लेकिन इन कच्चे धागों में बंध कर पति-पत्नी सम्पूर्ण जीवन काट देते हैं; अर्थात, कच्चे धागों में बंधा यह रिश्ता इतना मज़बूत होता है की आसानी से तोड़ा भी नहीं जा सकता | तभी तो वर्माजी यह हाइकु विशिष्ट बन पडा है | ---
रिश्तों की डोर / मज़बूती से बंधी / कच्ची ही सही
    कवि, व्यंग्यकार और चिन्तक डा. सुरेन्द्र वर्मा, ज़ाहिर है, एक अच्छे हाइकुकार भी हैं | ‘दहकते पलाश’ इनका तीसरा हाइकु-संग्रह है | इस कृति में ग्यारह सोदोका और २२ तांका भी संग्रहीत हैं | ३५५ हाइकु में से अनेकों हाइकु बहुत अच्छे बन पड़े हैं | निम् हाइकुओं का रसास्वादन लीजिए –
ये ज़लज़ला / न विज्ञान न कला / न फलसफा
जंगल कटे / जंगलीपन बढ़ा / कैसा विकास
कंधे न मिले / ज़रूरत के वक्त / तटस्थ रहे
भोर का तारा / जगाके जग को / डूबा बेचारा
     इस पुस्तक में निम्न दो हाइकु ऐसे संग्रहीत हो गए हैं जो दाल में कंकड़ी का अहसास कराते हैं | -
चांदनी रात में / नाव में हमदोनों  / तरंगें साथ
खारा जल / आँखों के सागर में / कौन पी गया ?
     पहले हाइकु में प्रथम पंक्ति में पांच की जगह ६ वर्ण हैं; दूसरे हाइकु में चार ही वर्ण रह गए हैं | प्रूफ रीडिंग में असावधानी की वजह से संभवत: ऐसा हुआ है | इस पुस्तक के कलेवर में अच्छे अच्छे हाइकु सहेजे गए हैं | पाठक इन्हें पढ़कर अवश्य ही अपने को आनंदित महसूस करेगा |
    मैं डा. सुरेन्द्र वर्मा जी के स्वस्थ और सुखमय जीवन की कामना करता हूँ और उनसे एक और नई हाइकु कृति की आशा करता हूँ |
                                                 --संतोष कुमार सिंह (कवि एवं बाल साहित्यकार )
बी ४९, मोटी कुञ्ज एक्स्टेन्शन, मथुरा
मो. ९४५६८८२१३१


  

            (दहकते पलाश, डा. सुरेन्द्र वर्मा, अयन प्रकाशन , नई दिल्ली , १९१६ , पृष्ठ १०४ , मूल्य रु. २२०/- केवल )
                                                            मनोज सोनकर

       कुछ हाइकु सुन्दर हैं---
लपेटे रही
कोहरे की चादर
बेचारी धूप      (पृष्ठ, १३)
     धूप का मानवीकरण प्रभावशाली है |
कितनी पीर
पी गया पर्वत
धाराएं फूटीं        (पृष्ठ १४ )
       अच्छी कल्पना है |
एकांत मिला
खुल गए किवाड़
भीतर झांका          (पृष्ठ ५९)
         सचमुच एकांत में ही आदमी अपने आप से मिलता है |
प्रेम वंचित
मरुस्थल में नर
सूखे वृक्ष सा          (पृष्ठ ६२)
          प्रेम हीन के लिए सूखे वृक्ष का उपमान सटीक है |
एक टीस सी
चूर चूर रिश्तों की
चुभती रही            (पृष्ठ ६६)
          सचमुच खंडित सम्बन्ध त्रासद होते हैं |
          तांका और सेदोका साधारण हैं | हाइकु अभिधात्म हैं | लक्षणा और व्यंजना का भी प्रयोग होना चाहिए |
                                                                                               -मनोज सोनकर , मुम्बई | दिनांक १४ १० १६ |

Conversation opened. 3 messages. All messages read.

Skip to content
Using Gmail with screen readers
2
Search



Gmail
COMPOSE
Labels
Inbox (193)
Starred
Important
Sent Mail
Drafts (3)
Personal
Travel
More 
Hangouts




हाइकु संग्रह -डॉ सुरेंद्र वर्मा

(पुस्तक समीक्षा )

सुशील शर्मा

किसी प्रतिष्ठित साहित्यकार की लेखनी की गहराई को समझने के लिए पारखी बुद्धि और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ सामाजिक समझ अत्यंत आवश्यक है।डॉ सुरेंद्र वर्मा के हाइकु संग्रह की समीक्षा  सन्दर्भ में उक्त बात को मैंने अपनी सीमान्त मेधा में विशेष स्थान दिया है। मैंने कुछ दिनों पहले प्रदीप कुमार दाश "दीपक "के संपादन में प्रकाशित हाइकु संग्रह "झाँकता चाँद " की समीक्षा लिखी थी। उस समीक्षा से डॉ. सुरेंद्र वर्मा बहुत प्रभावित हुए उन्होंने दूरभाष पर आदेशित किया कि  उनके हाइकु संग्रह 'दहकते पलाश' की समीक्षा मैं लिखूं। ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है की ऐसे मूर्धन्य कवि ,व्यंगकार और चिंतक व्यक्तित्व के कृतित्व की समीक्षा लिख कर मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। 


डॉ सुरेंद्र वर्मा जैसे मूर्धन्य साहित्यकार का यह हाइकु संग्रह"दहकते पलाश"जब मेरे हाथ मे आया तो प्रथम दृष्टया पढ़ने के उपरांत मुझे इसमें कुछ विशेष नजर नहीं आया।लेकिन जब इसको दूसरीबार पढ़ा तो इसमें संग्रहीत हाइकु कविताओं की गहराइयों ने मुझे आंदोलित किया और उनका अमिट प्रभाव मेरे हृदयस्थल पर अंकित हो गया।
हिन्दी साहित्य का 20 वीं सदी का इतिहास विभिन्न विधाओं के सृजन,विदेशी विधाओं के प्रभाव और उनके विरोध और हिंदी साहित्य में उनकी स्वीकृति एवं उन्हें आत्मसात करने का काल रहा है। ऐसी विधाओं का इसलिए विरोध हुआ कि वो हिंदी साहित्य को नुकसान पहुंचाएंगी और हमारी जो मौलिक और सास्वत विधाएं है वो समय के गर्त में समा जाएंगी।लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।और अंत मे हिन्दी साहित्य ने उन्हें खुले मन से स्वीकार किया।
इन्ही विधाओं में से हाइकु कविताएं भी हैं।हाइकु 5-7-5 के वर्णक्रम में 17 आक्षरिक त्रिपदकि छंद है।जिसमे अभिव्यक्ति की गहनतम गहराई समावेशित होती है। हम अभिव्यक्ति की बात करते हैं, तो अनुभूतियाँ उसके पार्श्व से स्वमेव झाँकने लगती हैं। और मनोहारी बिम्बों का हृदयस्पर्शी सृजन हाइकु कविताओं के रूप में पुष्पित और पल्लवित होने लगता है।
डॉ सुरेंद्र वर्मा की हाइकु कविताओं में जीवन के विभिन्न आयामों के बिम्बों का स्पष्ट परिलक्षण है।आज जीवन में छोटे-छोटे सत्यों, अनुभूतियों तथा संवेदनाओं का व्यापक संसार हमारे चारों ओर घूम रहा है। डॉ सुरेंद्र वर्मा ने  इन जीवन-सत्यों की एक कुशल चित्रकार की भांति अपनी हाइकू कविताओं में उकेरा है।
आज के साहित्यकार की सबसे बड़ी चुनौती जीवन के सुख दुख, लाभ हानि,संघर्ष,जिजीविषा,जीवन यथार्थ के साथ साथ मनोविकार विसंगति,विद्रूपता,सामाजिक और आर्थिक सरोकारों को अपने साहित्य में चित्रित करना है।इसमें बहुत कम साहित्यकार सफल हुए है।जिसमे से एक नाम डॉ सुरेंद्र वर्मा का है।
डॉ सुरेंद्र वर्मा ने  देश, समाज, राजनीति, दर्शन, अध्यात्म, प्रकृति, शिक्षा, साहित्य, कला, श्रृंगार, आदि अनेक विषयों पर हाइकु एवम सेनरियू कविताएं रचीं है जो कालजयी श्रेणी की हैं।
समाज की आंतरिक कुरीतियों एवम राजनीतिक विषमताओं पर आपने अपने हाइकु कविताओं के माध्यम से करारा प्रहार किया है।आपकी सशक्त हाइकु रचनाओं में प्रकृति की अनुगूंज,मानव मन के विषाद और हर्ष के बिम्ब स्पष्ट प्रतिबिम्बित हैं।
डॉ सुरेंद्र वर्मा के इस हाइकु संग्रह के कुछ सर्वश्रेष्ठ हाइकु जिन्होंने मेरे मन को आंदोलित किया है की समीक्षा प्रस्तुत है-
*1.कितनी पीर/पी गया है पर्वत/धाराएं फूटी।*
मनुष्य के दर्द,दुख,विषमताओं को प्रतिबिंबित करती हाइकु कविता।
*2.सारे गांव पे/रखता है नजर/बूढा दरख़्त।*
समाज मे वृद्ध व्यक्तियों के स्थान और उपयोगिता को इंगित करता हाइकु।
*3.धूसर पौधे/वर्षा जल में धुले/नए के नए।*
समय के पुनरागमन का सुंदर बिम्ब प्रस्तुत करती हाइकु कविता।
*4.गुलमोहर/सहता रहा ताप/हंसता रहा।*
गुलमोहर पेड़ के माध्यम से मानवीय जीवन की सहनशीलता को दर्शाता हाइकु।
*5.जलाते नहीं/दहकते पलाश/रंग भरते।*
जीवन के सकारात्मक पहलू को उजागर करता हाइकु।
*6.दृष्टि विहीन/सांसद और नेता/मर्यादा हीन।*
भारतीय राजनीति पर सटीक व्यंग करता सेनरियू।
*7.कैसी संस्कृति/शिक्षा हुई दुकान/धर्म अधर्म।*
शिक्षा की दुर्व्यवस्था को उकेरता सेनरियू।
*8.दाम चुकाओ/मूल्य तक बिकते हैं/बाजार विच।*
वर्तमान वैशविक बाज़ारीकरण की विषमताओं को रेखांकित करता सेनरियू।
*9.हिमालय के/ उतुंग शिखर सा/ मन हमारा।*
मनुष्य के अंदर संकल्पों का दीया जलाता श्रेष्ठ हाइकु।
*10.दीप ने कहा /लड़ो अंधकार से /यही संकल्प।*
दीपक के द्वारा मानव मन को संकल्पित करता उच्च कोटि का हाइकु।
*11.स्वांग रचते /क्षद्म रूप धरते/ स्वप्न निराले।*
सपनों की निराली दुनिया को सपनीला बनाता श्रेष्ठ हाइकु।
*12.संभावनाएं /मरती नही कभी/ चिर जीवित।*
मनुष्य के उर अंतर में आशा का संचार करता उच्चकोटि का हाइकु।
*13.मौन मुखर/अंतर की आवाज़/सुनो गौर से।*
अपने अंतस में स्वयं को खोजती श्रेष्ठ हाइकु कविता।
डॉ वर्मा के इस संग्रह में तांका और सेदोका को भी स्थान दिया गया है।ये दोनों विधाएं हाइकु कविता का ही विस्तृत रूप हैं।
*14.वही तारीख /बार बार लौटती /काल का क्रम /बढ़ता आगे नहीं /लाचार है समय।*
जीवन मे समय की पुनरावृत्ति को रेखांकित करता तांका।
*15.धरती तुम/सतह पर सख्त/अंदर नीर भरी/कितने आंसू/रखे सुरक्षित हो/कोई नही जानता।*
धरती के माध्यम से नारी जाति की सहनशीलता को प्रतिबिंबित करता श्रेष्ठ सेदोका।
आधुनिक हाइकु के जनक बाशो ने हाइकु लेखन की उत्कृष्टता के बारे में कहा कि अगर कोई कवि अपने जीवन काल मे तीन उत्कृष्ट हाइकु लिखता है तो वह कवि की श्रेणी में आ जाता है और अगर उसने पांच उत्कृष्ट हाइकु लिखे तो वह महाकवि कहलाने योग्य है।
इस कथन का भावार्थ यह है कि श्रेष्ठ हाइकु लिखना आसान काम नही हैं।श्रेष्ठ हाइकु लिखने के लिए आपको संवेदनाओं और अभिव्यक्ति के गहन समंदर में उतरना होगा तभी उच्चकोटि के हाइकु का सृजन संभव है।
आजकल सोशल मीडिया और अंतरजाल पर जो अधिकांश हाइकु लिखे जा रहे हैं वह सिर्फ हाइकु की भौतिक संरचना की ही पूर्ति है।हाइकु के प्राण गहन अभिव्यक्ति का उनमे नितांत अभाव झलकता है। इसका मुख्य कारण है कि प्रकाशित हाइकु संग्रहों की समीक्षा बहुत कम लिखी जा रही है।

इस हाइकु संग्रह में मुझे एक कमी बहुत खल रही है।इस संग्रह के हाइकु विषयानुसार क्रम में नही हैं।दूसरा विषय और भावों का क्रम भी निश्चित नही हैं।इसकारण से पाठक की तन्मयता टूटती है।इसके अलावा इस संग्रह में मुझे और कोई कमी नजर नही आई।
पुस्तक का आवरण पृष्ठ आकर्षक है।छपाई उच्चकोटि की है।इसके लिए अयन प्रकाशन के आदरणीय भूपाल जी सूद बधाई के पात्र हैं।


हाइकु कविता का सृजन सामान्य प्रक्रिया नही है।मनुष्य और इस जीवन से संबंधित समस्त भावों की गहन अभिव्यक्ति का 17 वर्णो में प्रतिबिम्बन आसान नही है ।हाइकु का सृजन गहन संवेदनाओं का जीना है।अपनी आत्मा ,मन और संवेदनाओं को मानवता और प्रकृति से जोड़कर जो साहित्यकार सृजन करता है वही साहित्य कालजयी होता है।
डॉ सुरेंद्र वर्मा ने अपने जीवनकाल में जिन संवेदनाओं को जिया है उनका निचोड़ इस हाइकु संग्रह की हाइकु तांका और सेदोका कविताओं में प्रतिबिम्बित है।
एक कवि,दार्शनिक,चिंतक अध्यापक और चित्रकार की सम्पूर्ण संवेदनाओं को आवाज़ देता उनका यह संग्रह"दहकते पलाश" हिंदी साहित्य की धरोहर है।

दहकते पलाश
लेखक-डॉ सुरेंद्र वर्मा
कीमत-220 रुपये
प्रकाशक-अयन प्रकाशन
महरौली नई 






---------------------------------------------





-    प्रदीप कुमार दाश “दीपक” (मो. ७८२८१०४१११)